parvaaz hounsale ki

Just another Jagranjunction Blogs weblog

56 Posts

23 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 24173 postid : 1317216

अपनी 'आत्मशक्ति' के कारण टिका हूँ

Posted On: 3 Mar, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

17101773_1283655375014898_818073976_n

अन्याय के विरुद्ध आवाज़ उठाने वाले प्रायः अकेले पड़ जाते हैं। समाज और परिवार की तरफ से उन्हें वह सहयोग नही मिल पाता जो मिलना चाहिए। यही कारण है कि हमारे समाज में न्याय देर से मिलता है। जबकी जो लोग भी अन्याय के विरुद्ध लड़ते हैं उसमें केवल उनका स्वार्थ नही होता। वह लड़ाई दरअसल हमारी अपनी लड़ाई होती है।
मास्टर विजय सिंह पिछले दो दशकों से एक ऐसी ही लड़ाई लड़ रहे हैं। उनकी सरकार से मांग है कि उनके गांव की लगभग 4000 बीघा जमीन जिस पर भूमि माफिया का कब्ज़ा है मुक्त कर दी जाए।
पिछले 21 वर्षों से मुजफ्फर नगर कलेक्ट्रेट के गलियारे में इस अन्याय के विरुद्ध धरने पर बैठे हैं।
इनके गांव चौसाना मे दबंगो का बोलबाला था। गरीबों को न्याय नही मिलता था। सरकारी भूमि व योजनाओ को दबंग लोग हड़प लेते थे। एक दिन जब विजय सिंह स्कुल से घर आ रहे था एक पाँच साल का बच्चा अपनी माँ से कह रहा था कि माँ किसी के घर से आटा ले आओ। ताकि शाम को तो रोटी बन सके। बच्चे के शब्दों ने उन्हें भीतर तक झकझोर दिया। उस रात उन्हें नींद नही आई।
विजय जी ने इस विषय  में कुछ करने की ठानी। अपने शिक्षक पद से त्याग पत्र दे दिया। अपने गांव से 70 किमी दूर कलेक्ट्रेट के दफ्तर में जाकर चौसाना की भूमि संबंधित रिकॉर्ड की छानबीन करते थे। इन्हें पता चला की गांव की भूमि का एक बड़ा भाग भूमि माफियाओं के कब्ज़े में था। इस जानकारी ने उस बच्चे की भूख के कारण का खुलासा कर दिया।
विजय जी ने इन दबंगों के विरुद्ध मुहिम छेड़ दी। मुजफ्फर नगर के डीएम, राज्य सरकार के होम सेक्रेटरी तथा केंद्र की सरकार को इन्होंने इस विषय में पत्र लिखे। इन्हें इनके मकसद से डिगाने के लिए पहले तो लालच देने का प्रयास किया गया। किंतु जब इससे बात नही बनी तो इन्हें मारने की धमकियां मिलने लगीं। एक बार अपने ऊपर हुए जानलेवा हमले में विजय जी बाल बाल बचे। अतः पुनः इस प्रकार का हमला ना हो इसलिए वह 26 फरवरी 1996 को डीएम के दफ्तर के सामने धरने पर बैठ गए। तब से अपनी मांग को लेकर वह धरने पर बैठे हैं।
2007  में विजय जी ने लखनऊ तक की 600 किमी की पैदल यात्रा की। इस यात्रा के दौरान मार्ग में पड़ने वाले गांव के लोगों को वह भूमि माफियाओं के विषय में बता कर उन्हें इस आंदोलन के लिए तैयार करते रहे। उस समय के राज्य के होम सेक्रेटरी से मिल कर उन्हें पूरे मामले की जानकारी दी। इसके परिणाम स्वरूप तकरीबन 300 बीघा जमीन भूमि माफियाओं के कब्ज़े से छुड़ा ली गई। इसके अलावा कई बाहुबलियों के विरुद्ध 136 के करीब मामले भी दर्ज़ किए गए। लेकिन इससे अधिक कुछ नही हो पाया।
विजय जी का यह आंदोलन बहुत ही शांतिपूर्ण एवं अहिंसात्मक तरीके से जारी है। इस आंदोलन के कारण इनके परिवार ने भी इनसे नाता तोड़ लिया।
समाज से भी उन्हें इनके इस मिशन के लिए कोई सहायता प्राप्त नही हुई। कुछ लोग ऐसे अवश्य हैं जो विजय जी एवं उनके आंदोलन के प्रति सहानुभूति रखते हैं। उनसे मिली थोड़ी बहुत सहायता के कारण विजय जी जीवन निर्वाह कर पा रहे हैं।
2015 में विजय जी के इस आंदोलन को किसी भी व्यक्ति द्वारा सबसे लंबे समय तक धरने पर बैठने के लिए लिम्का बुक ऑफ वर्ड रिकॉर्ड में दर्ज़ किया गया है।
अब तक मिली उपेक्षा के बावजूद विजय जी पूरी उम्मीद से इस जंग को जारी रखे हुए हैं। उनका मानना है कि वह दिन अवश्य आएगा जब उनका गांव चौसाना एक आदर्श गांव बनेगा। जब भूमि माफियाओं के कब्ज़े वाली ज़मीन पर गांव वालों का अधिकार होगा।
समाज को उनका संदेश है
“अपने अधिकारो के लिए संघर्ष करें।जब तक देश मे भ्रष्टाचार व्याप्त है तब तक कुछ नही होगा।”




Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran